Meaning of Bear in Hindi - हिंदी में मतलब

profile
Ayush Rastogi
Mar 08, 2020   •  1 view
  • करना

  • होना

  • उचित होना

  • फैलना

  • दिखाना

  • फैलाना

  • मिलना

  • देना

  • व्यवहार करना

  • सहना

  • ले जाना

  • जन्म देना

  • ढकेलना

  • सँभालना

  • उठाना

  • रखना

  • धारण करना

  • लेना

  • जानना

  • झुकना

  • अनुमति देना

  • पहुँचाना

  • बरदाश्त करना

  • उठाकर ले जाना

  • सहन करना

  • रूखा व्याक्ति

  • मोड़ देना

  • बर्दाश्त करना

  • खिलना

  • मंदा

  • भालू का बच्चा

  • फलना

  • वहन करना

  • भालू

  • आचरण करना

  • सट्टेबाज

  • उपयुक्त्त होना

  • भालू , जन्म देना , सहन करना

  • तारामंडल

  • अशिष्ट व्याक्ति

  • परिदाण करना

  • रीछ

  • मुड़ना

  • ऋक्ष

Synonyms of "Bear"

Antonyms of "Bear"

"Bear" शब्द का वाक्य में प्रयोग

  • I would rather you bear my sin and your sin and become among the inhabitants of Hell. Such is the recompense of the harmdoers '
    मैं तो ज़रूर ये चाहता हूं कि मेरे गुनाह और तेरे गुनाह दोनों तेरे सर हो जॉए तो तू जहन्नुमी बन जाए और ज़ालिमों की तो यही सज़ा है

  • Believers, do not hunt when you are in the holy precinct. Whichever of you purposely kills game in the holy precinct has to offer, as an expiation, a sacrifice in the holy precinct which two just people among you would consider equal to the prey or food to a destitute person or has to fast to bear the burden of the penalty for his deed. God forgives whatever was done in the past, but He will take revenge on whoever returns to transgression, for He is Majestic and Capable of taking revenge.
    ऐ ईमान लानेवालो! इहराम की हालत में तुम शिकार न मारो । तुम में जो कोई जान - बूझकर उसे मारे, तो उसने जो जानवर मारा हो, चौपायों में से उसी जैसा एक जानवर - जिसका फ़ैसला तुम्हारे दो न्यायप्रिय व्यक्ति कर दें - काबा पहुँचाकर क़ुरबान किया जाए, या प्रायश्चित के रूप में मुहताजों को भोजन कराना होगा या उसके बराबर रोज़े रखने होंगे, ताकि वह अपने किए का मज़ा चख ले । जो पहले हो चुका उसे अल्लाह ने क्षमा कर दिया ; परन्तु जिस किसी ने फिर ऐसा किया तो अल्लाह उससे बदला लेगा । अल्लाह प्रभुत्वशाली, बदला लेनेवाला है

  • We have to bear in mind that if the people lose their faith in the judicial system and carry the impression that the judiciary is not able to punish the cuplrits, the victims and the kinsmen of the victims would resort to extra - legal methods to settle scores with the culprits whose identity is normally known to them.
    हमें यह स्मरण रखना चाहिए कि अगर लोगों का विश्वास न्यायतंत्र से उठ गया और उनके मन में यह बात बैठ गई कि न्यायपालिका अपराधियों को दंड देने में असमर्थ है तो अपराधों के शिकार व्यक्ति और उनके संगे - संबंधी अपराधियों के साथ, जिन्हें वे प्रायः पहचानते हैं, निपटने के लिए गैरकानूनी तरीकों का इस्तेमाल करेंगे ।

  • And recall what time ye said: O Musa! we shall by no means bear patiently with one food, wherefore supplicate for us unto thy Lord that He bring forth for us of that which the earth groweth, of its vegetables, and its cucumbers, and its Wheat, and its lentils, and its onions. He Said: would ye take in exchange that which is mean for that which is better! Get ye down into a City, as verily therein is for you that which ye ask for. And stuck upon them were abjection and poverty. And they drew on themselves indignation from Allah. This, because they were ever disbelieving in the signs of Allah and slaying the prophets without justice. This, because they disobeyed and were ever trespassing.
    जब तुमने मूसा से कहा कि ऐ मूसा हमसे एक ही खाने पर न रहा जाएगा तो आप हमारे लिए अपने परवरदिगार से दुआ कीजिए कि जो चीज़े ज़मीन से उगती है जैसे साग पात तरकारी और ककड़ी और गेहूँ या और मसूर और प्याज़ की जगह पैदा करें कहा क्या तुम ऐसी चीज़ को जो हर तरह से बेहतर है अदना चीज़ से बदलन चाहते हो तो किसी शहर में उतर पड़ो फिर तुम्हारे लिए जो तुमने माँगा है सब मौजूद है और उन पर रूसवाई और मोहताजी की मार पड़ी और उन लोगों ने क़हरे खुदा की तरफ पलटा खाया, ये सब इस सबब से हुआ कि वह लोग खुदा की निशानियों से इन्कार करते थे और पैग़म्बरों को नाहक शहीद करते थे, और इस वजह से कि वह नाफ़रमानी और सरकशी किया करते थे

  • Those who bear the Throne and those around it glorify the praises of their Lord, and believe in Him, and ask forgiveness for those who believe:" Our Lord! You comprehend all things in mercy and knowledge, so forgive those who repent and follow Your Way, and save them from the torment of the blazing Fire!
    जो सिंहासन को उठाए हुए है और जो उसके चतुर्दिक हैं, अपने रब का गुणगान करते है और उस पर ईमान रखते है और उन लोगों के लिए क्षमा की प्रार्थना करते है जो ईमान लाए कि" ऐ हमारे रब! तू हर चीज़ को व्याप्त है । अतः जिन लोगों ने तौबा की और तेरे मार्ग का अनुसरण किया, उन्हें क्षमा कर दे और भड़कती हुई आग की यातना से बचा लें

  • The inhabitants of the islands who are now called ' citizens ' throw all their gold into their boat and the boat, unable to bear this weight of gold, sinks into the sea.
    इतने में द्वीप के निवासी जो अब नागरिक कहलाने लगे है अपना सारा सीना बटोरकर उनकी नाव पर फैंक देते हैं ओर नाव इस बोझ से उलट जाती है ।

  • He who turns away from it will surely bear a heavy burden on the Day of Resurrection,
    जिसने उससे मुँह फेरा वह क़यामत के दिन यक़ीनन बोझ उठाएगा

  • They said," We only wish to eat therefrom to comfort our hearts, to know that you have spoken the Truth to us, and to bear witness to it along with the others."
    वह अर्ज़ करने लगे हम तो फक़त ये चाहते है कि इसमें से कुछ खाएँ और हमारे दिल को इत्मेनान हो जाए और यक़ीन कर लें कि आपने हमसे सच फरमाया था और हम लोग इस पर गवाह रहें

  • How can I bear to be away from Thee ?
    तुम्हारा विछोह मैं कैसे सह पाऊँगी ?

  • Together they shall all come before Allah. Then the weak will say to those who were proud: ' We were your followers. Can you help us in anything against the punishment of Allah ' They will say: ' Had Allah guided us we would have guided you. It is now the same for us whether we cannot endure or bear patiently, we have no place of refuge '
    और लोग सबके सब ख़ुदा के सामने निकल खड़े होगें जो लोग क़हेंगें कि हम तो बस तुम्हारे क़दम ब क़दम चलने वाले थे तो क्या तुम ख़ुदा के अज़ाब से कुछ भी हमारे आड़े आ सकते हो वह जवाब देगें काश ख़ुदा हमारी हिदायत करता तो हम भी तुम्हारी हिदायत करते हम ख्वाह बेक़रारी करें ख्वाह सब्र करे हमारे लिए बराबर है हमें तो अब छुटकारा नहीं

0



  0