Meaning of Reject in Hindi - हिंदी में मतलब

profile
Ayush Rastogi
Mar 09, 2020   •  1 view
  • अस्वीकार करना

  • निकाल देना

  • बेकार वस्तु

  • रद्द कर देना

  • फेंक देना

  • अस्वीकृत वस्तु

  • उपेक्षित करना

  • न चाहना

  • बेकार

  • फेँकना

Synonyms of "Reject"

Antonyms of "Reject"

"Reject" शब्द का वाक्य में प्रयोग

  • Those who reject our signs are deaf and dumb, - in the midst of darkness profound: whom Allah willeth, He leaveth to wander: whom He willeth, He placeth on the way that is straight.
    जिन लोगों ने हमारी आयतों को झुठलाया, वे बहरे और गूँगे है, अँधेरों में पड़े हुए हैं । अल्लाह जिसे चाहे भटकने दे और जिसे चाहे सीधे मार्ग पर लगा दे

  • Like its medieval precursor, the modern synthesis will remain vulnerable to attack by purists, who can point to Muhammad ' s example and insist on no deviation from it. But, having witnessed what Islamism, whether violent or not, has wrought, there is reason to hope that Muslims will reject the dream of reestablishing a medieval order and be open to compromise with modern ways. Islam need not be a fossilized medieval mentality ; it is what today ' s Muslims make of it. Policy Implications
    मिस्र में मुस्लिम विद्वानों के सम्मेलन में स्त्रियों के खतना को इस्लाम के विपरीत माना गया और वास्तव में इसे दंडनीय माना गया ।

  • The rights of the employer to accept or reject any application for voluntary retirement.
    स्वैाच्छिक सेवानिवृत्ति के लिए किसी आवेदन को स्वीककार करने या अस्वीोकार करने क नियोजक के अधिकार

  • And those who disbelieve and reject Our communications, they are the inmates of the fire, to abide therein and evil is the resort.
    रहे वे लोग जिन्होंने इनकार किया और हमारी आयतों को झुठलाया, वही आगवाले है जिसमें वे सदैव रहेंगे । अन्ततः लौटकर पहुँचने की वह बहुत ही बुरी जगह है

  • Say," The truth is from your Lord": Let him who will believe, and let him who will, reject: for the wrong - doers We have prepared a Fire whose, like the walls and roof of a tent, will hem them in: if they implore relief they will be granted water like melted brass, that will scald their faces, how dreadful the drink! How uncomfortable a couch to recline on!
    कह दो," वह सत्य है तुम्हारे रब की ओर से । तो अब जो कोई चाहे माने और जो चाहे इनकार कर दे ।" हमने तो अत्याचारियों के लिए आग तैयार कर रखी है, जिसकी क़नातों ने उन्हें घेर लिया है । यदि वे फ़रियाद करेंगे तो फ़रियाद के प्रत्युत्तर में उन्हें ऐसा पानी मिलेगा जो तेल की तलछट जैसा होगा ; वह उनके मुँह भून डालेगा । बहुत ही बुरा है वह पेय और बहुत ही बुरा है वह विश्रामस्थल!

  • Say," Have you thought: what if this Quran really is from God and you reject it ? What if one of the Children of Israel testifies to its similarity to earlier scripture and believes in it, and yet you are too arrogant to do the same ? God certainly does not guide evil - doers."
    कहो," क्या तुमने सोचा भी ? यदि वह अल्लाह के यहाँ से हुआ और तुमने उसका इनकार कर दिया, हालाँकि इसराईल की सन्तान में से एक गवाह ने उसके एक भाग की गवाही भी दी । सो वह ईमान ले आया और तुम घमंड में पड़े रहे । अल्लाह तो ज़ालिम लोगों को मार्ग नहीं दिखाता ।"

  • We made a covenant with the Israelites and sent Messengers to them. Whenever a Messenger came to them with a message which did not suit their desires, they would reject some of the Messengers and kill others.
    हमने बनी इसराईल से एहद व पैमान ले लिया था और उनके पास बहुत रसूल भी भेजे थे जब उनके पास कोई रसूल उनकी मर्ज़ी के ख़िलाफ़ हुक्म लेकर आया तो इन लोगों ने किसी को झुठला दिया और किसी को क़त्ल ही कर डाला

  • This because those who reject Allah follow vanities, while those who believe follow the Truth from their Lord: Thus does Allah set forth for men their lessons by similitudes.
    ये इस वजह से कि काफिरों ने झूठी बात की पैरवी की और ईमान वालों ने अपने परवरदिगार का सच्चा दीन एख्तेयार किया यूँ ख़ुदा लोगों के समझाने के लिए मिसालें बयान करता है

  • Have the accounts of your predecessors not reached you: the people of Noah, the Ad, the Thamud, and those who came after them - they whose number is not known to any except Allah ? Their Messengers came to them with Clear Signs, but they thrust their hands in their mouths, and said:" We do surely reject the Message you have brought, and we are in disquieting doubt about what you are summoning us to."
    और हम्द है क्या तुम्हारे पास उन लोगों की ख़बर नहीं पहुँची जो तुमसे पहले थे नूह की क़ौम और आद व समूद और जो उनके बाद हुए उनको ख़ुदा के सिवा कोई जानता ही नहीं उनके पास उनके पैग़म्बर मौजिज़े लेकर आए तो उन लोगों ने उन पैग़म्बरों के हाथों को उनके मुँह पर उलटा मार दिया और कहने लगे कि जो तुम ख़ुदा की तरफ से भेजे गए हो हम तो उसको नहीं मानते और जिस की तरफ तुम हमको बुलाते हो बड़े गहरे शक़ में पड़े है

  • And those who had envied his position the day before began to say on the morrow:" Ah! it is indeed Allah Who enlarges the provision or restricts it, to any of His servants He pleases! had it not been that Allah was gracious to us, He could have caused the earth to swallow us up! Ah! those who reject Allah will assuredly never prosper."
    और जिन लोगों ने कल उसके जाह व मरतबे की तमन्ना की थी वह कहने लगे अरे माज़अल्लाह ये तो ख़ुदा ही अपने बन्दों से जिसकी रोज़ी चाहता है कुशादा कर देता है और जिसकी रोज़ी चाहता है तंग कर देता है और अगर ख़ुदा हम पर मेहरबानी न करता तो उसकी तरह हमको भी ज़रुर धॅसा देता - और माज़अल्लाह हरगिज़ कुफ्फार अपनी मुरादें न पाएँगें

0



  0