Meaning of Realism in Hindi - हिंदी में मतलब

profile
Ayush Rastogi
Mar 08, 2020   •  0 views
  • सितारा मछली

  • यथार्थवाद

Synonyms of "Realism"

  • Pragmatism

  • Reality

  • Realness

  • Naturalism

  • Platonism

Antonyms of "Realism"

"Realism" शब्द का वाक्य में प्रयोग

  • The extent of treatment, with a background of social life and realism, and the theme of love naturally afford good scope for a writer ' s imaginative and poetic abilities.
    सामाजिक जीवन तथा यथार्थता की पृष्ठभूमि में कथा का विस्तार एवं श्रृंगार - रसपूर्ण विषय कवि को अपने कल्पनाशील और कवित्त्वमय सार्मथ्य का प्रदर्शन करने के लिए अच्छा स्थान प्रदान करते हैं ।

  • Khandekar later on was won over to realism but he tended to understand realism as social sympathy which made him accept many extra - literary standards in his judgement.
    खाण्डेकर ने बाद में यथार्थवाद को स्वीकार कर लिया था किन्तु वे यथार्थवाद को सामाजिक संवेदना के रूप में समझने की ओर प्रवृत हुए जिसने उनसे विष्णु सखाराम खाण्डेकर अपने मूल्यांकन में अनेक साहित्येतर स्तरों को स्वीकार कराया ।

  • Khandekar later on was won over to realism but he tended to understand realism as social sympathy which made him accept many extra - literary standards in his judgement.
    खाण्डेकर ने बाद में यथार्थवाद को स्वीकार कर लिया था किन्तु वे यथार्थवाद को सामाजिक संवेदना के रूप में समझने की ओर प्रवृत हुए जिसने उनसे विष्णु सखाराम खाण्डेकर अपने मूल्यांकन में अनेक साहित्येतर स्तरों को स्वीकार कराया ।

  • By this time, Hindustani had become the general public ' s language. To distinguish themselves from the general masses, the learned Muslims used to write in Urdu, while Khadiboli became prominent among educated Hindus. Khadiboli with heavily Sanskritized vocabulary or Sahityik Hindi was popularized by the writings of Swami Dayananda Saraswati, Bhartendu Harishchandra and others. Bhartendu Harishchandra preferred Braj Bhasha for poetry, but for prose, he deliberately used Khadiboli. Other important writers of this period are Mahavir Prasad Dwivedi, Maithili Sharan Gupt, R N Tripathi and Gopala Sharan Sinha. The rising numbers of newspapers and magazines made Khadiboli popular among the educated people. Chandrakanta, written by Devaki Nandan Khatri, is considered the first authentic work of prose in the Adhunik kaal. A story of magical characters, kings and kingdoms, it reminds one of The Lord of the Rings series and was successfully manifested into an eponymous TV Serial. The person who brought realism in the Hindi prose literature was Munshi Premchand, who is considered as the most revered figure in the world of Hindi fiction and progressive movement. Before Premchand, the Hindi literature revolved around fairy or magical tales, entertaining stories and religious themes. Premchand ' s novels have been translated into many other languages.
    साहित्य के क्षेत्र में उत्तर प्रदेश का स्थान सर्वोपरि है. साहित्य और भारतीय सेना दो ऐसे क्षेत्र हैं जिनमे उत्तर प्रदेश निवासी गर्व कर सकते हैं. आदि कवी वाल्मीकि तुलसीदास कबीरदास सूरदास से लेकर भारतेंदु हरिश्चंद्र आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी आचर्य राम चन्द्र शुक्ल प्रेमचंद जयशंकर प्रसाद निराला पन्त बच्चन महादेवी वर्मा मासूम राजा अज्ञये जैसे इतने महान कवि और लेखक हुए हैं उत्तर प्रदेश में कि पूरा पन्ना ही भर जाये. उर्दू साहित्य में भी बहुत ही महत्वपूर्ण योगदान रहा है उत्तर प्रदेश का. फिराक़ जोश मलीहाबादी चकबस्त जैसे अनगिनत शायर उत्तर प्रदेश ही नहीं वरन देश की शान रहे हैं. हिंदी साहित्य का क्षेत्र बहुत ही व्यापक रहा है और मानवीय संवेदना और राष्ट्र प्रेम की भावन से ओत - प्रोत रहा है. येद्दपि पक्षपातपूर्ण व्यवहार के चलते हिंदी के साहित्यकारों को नोबेल पुरस्कार नहीं मिला फिर भी उनकी सराहना करना वालो की कोई कमी नहीं है. लुग्गादी साहित्य भी यहाँ खूब पढ़ा जाता है.

  • After Indian Philosophy was published we could converse easily about the Vedic beginnings and the Upanishadic metaphysics ; the materialsim of the Lokayatas, the Pluralistic realism of the Jainas, the Ethical idealism of early Buddhism, the Theism of the Bhagavad Gita ; the many schools of Buddhism ; the Logical realism of the Nyaya, the Atomistic Pluralism of the Vaiseshika, the Samkhya system, Patanjali ' s Yoga, the Purva Mimamsa, the Brahmasutras ; Sankara ' s Advaita, Ramanuja ' s Theism ; Madhva ' s Dualism ; Saktaism, Saiva Siddhanta and the Vaishnavism of Vallabha and Chaitanya.
    भारतीय दर्शन के प्रकाशित हो जाने के बाद हम निम्नलिखित शास्त्रों के विषय में आसानी से बातचीत कर सकते हैं: वैदिक आरम्भ तथा औपनिषदिक तत्वमीमांसा, लोकायत का भौतिकवाद, जैनों का बहुलवादी यथार्थवाद आरम्भिक बौद्ध धर्म का नीतिशास्त्रीय आदर्शवाद, भगवद्गीता का आस्तिकवाद, बौद्ध धर्म के अनेक पन्थ, न्याय का तार्किक यथार्थवाद, वैशेषिक का परमाणविक बहुलवाद, सांख्य पद्धति, पतञ्जलि का योग, पूर्व मीमांसा, ब्रह्मसूत्र, शंकर का अद्वैत, रामानुज का ईश्वरवाद, माधव का द्वैतवाद, शाक्तवाद, शैव सिद्धांत तथा वल्लभ और चैतन्य का वैष्णववाद ।

  • Their idealism was not with out a hard core of realism and a sense of humour.
    उनका आदर्शवाद यथार्थवाद की ठोस जमीन पर टिका था और साथ ही इसमें विनोद का पुट भी था.

  • In the process, he strove to bring splendour and dignity, and grace and realism, in whatever he did for the sake of his Mandali.
    इस प्रक्रिया में उन्होंने मंडली के लिए जो कुछ भी किया उसमें भव्यता एवं वैभव, तथा मनोहरता और वास्तविक लाने का प्रयास किया ।

  • Realism introduced by Premchand in Hindi!
    प्रेमचंद ने हिंदी में यथार्थवाद की शुरूआत की ।

  • Bohuroopee ' s plays like Chhenra Taar had reached unsealed heights in dramatic realism and social awareness.
    बहुरुपी के छेनरा तार जेसे नाटक नाटकीय यथार्थवाद, सामाजिक जागरुकता में अमापित ऊंचाइयों तक पहुंचे ।

  • With its realism, pluralism and pan - objectivism, Nyaya - Vaisesika has produced an acute analysts of language and logic, of the world of common experience and at the same time a spirited rational defence of spiritual verities, viz. the soul, God, life after death and salvation.
    अपने यथार्थवाद, बहुत्ववाद और सर्वपदार्थवाद के कारण न्यायवैशषिक दर्शन ने भाषा और तर्कविज्ञान का तथा सामान्य अनुभव के संसार का तीक्ष्ण विश्लेषण किया है साथ ही आत्मा, ईश्वरीय, मरणोपंरात जीवन और मोक्ष जैसे आध्यात्मिक विषयो का भी बडा ही संजीव एंव तर्कबुद्धि पक्षपोषण किया है ।

0



  0