भ्रूण स्थानांतरण के बाद गर्भावस्था के लक्षण सकारात्मक संकेत | Positive Signs After Embryo Transfer: Symptoms Of Pregnancy

profile
Sunaina Sinha
Jun 30, 2020   •  2616 views
can-you-prevent-blighted-ovum-kc1fb3t6

प्रयोगशाला में अपने साथी के स्पर्म के साथ एक महिला के अंडे का निषेचन करके गर्भधारण कराया जाता हैं,  इस प्रक्रिया को इन-विट्रो-फर्टिलाइजेशन (IVF)कहते हैं। जिसके बाद उसके गर्भाशय में भ्रूण का आरोपण होता है। सफल आरोपण होने के बाद प्रारंभिक गर्भावस्था के पहले लक्षण आमतौर पर प्रक्रिया के दो सप्ताह बाद दिखाई देते हैं। आप खुद को अपने शरीर में होने वाले हर बदलाव कप महशुस कर सकती हैं जैसे ऐंठन, रक्तस्राव और स्तन परिवर्तन। आप इस दौरान गर्भावस्था के हर संभावित लक्षण के बारे में बता सकती हैं, यह सोचकर कि क्या भ्रूण में पल रहे एक अंडें ने खुद को माँ के उम्मीदवार के लीये गर्भाशय में प्रत्यारोपित हो गया है या आईसीएसआई प्रक्रियाओं में महिला को एक हार्मोनल उपचार से गुजरना पड़ता है जो हो सकता है गर्भावस्था के लक्षणों को ट्रिगर करें भले ही वह अंत में गर्भवती न हो।

यदि आपको लगे की स्तनों में कोमलता हो या आरोपण के बाद रक्तस्राव के लिए अपनी पैंटी की जाँच करने के बीच रक्तस्राव हो, इससे आप खुद बहुत चिंता और तनाव में आ सकती हैं यदि इन में से कोई भी संभावित लक्षण दिखने पर सकारात्मक गर्भावस्था परीक्षण के बराबर हो सकता है। इसका मतलब की आप प्रेग्नेंट हैं। और कुछ लक्षण एक सफल प्रक्रिया कर के पता कर सकती हैं, जैसे प्रजनन दवाओं का सेवन से जो आप गर्भवती होने के लिए ले रहे हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन आमतौर पर भ्रूण स्थानांतरण से पहले लिया जाता है, और स्थानांतरण के बाद लिया गया प्रोजेस्टेरोन ब्लोटिंग, गले में खराश और गर्भावस्था के निर्वहन की नकल करता है। 

कई महिलाएं अभी भी किसी भी सकारात्मक संकेत पर कड़ी नजर रखती हैं जो एक सफल भ्रूण स्थानांतरण का संकेत दे सकती हैं। और जब आप इनमें से कुछ या किसी भी लक्षण का अनुभव कर सकती हैं, तो उस प्रक्रिया में उनकी भूमिका को समझना महत्वपूर्ण है। ऐसे में आइये इस आर्टिकल के माध्यम से जानते हैं कि एम्ब्र्यो ट्रांसफर के बाद क्या होता है व आईवीएफ गर्भधारण के शुरुआती लक्षण क्या होते हैं।

स्पॉटिंग या रक्तस्राव:

गर्भावस्था का पहला संकेत जिसे आप अपने आईवीएफ भ्रूण हस्तांतरण प्रक्रिया के बाद हल्का रक्तस्राव या स्पॉटिंग हो सकता हैं। आपके द्वारा देखा जाने वाला रक्त गहरे भूरे या काले रंग का हो सकता हैं।आईवीएफ में भ्रूण स्थानांतरण के बाद गर्भावस्था के लक्षण में यह संकेत आपके प्रेग्नेंट होने का सबसे बड़ा रिजल्ट होता हैं यदि ऐसा होता है, तो यह एक अच्छा संकेत है, क्योंकि इसका मतलब है कि भ्रूण ने खुद को आपके गर्भाशय में प्रत्यारोपित किया है। हालांकि, रक्तस्राव चमकदार लाल रंग का भी हो सकता है, जब आपकी अवधि शुरू होने वाली होती है, तो यह आरोपण रक्तस्राव के कारण नहीं होता है।

ऐंठन

ऐंठन होना गर्भधारण के एक अच्छे संकेतों में से एक है यह एक संकेत भी हो सकता है कि भ्रूण स्थानांतरण सफल रहा। लेकिन इससे पहले कि आप एक गर्भावस्था परीक्षण करें, याद रखें, हल्के ऐंठन होने के बाद भी आप 2 सप्ताह का इंतजार करें उसके बाद प्रेगनेंसी टेस्ट करें चुकी उस दौरान प्रोजेस्टेरोन आपके शरीर में फैला होता हैं। और कुछ महिलाओं के लिए, किसी भी पेल्विक प्रक्रिया के तुरंत बाद हल्के ऐंठन भी हो सकते हैं। लेकिन, गंभीर ऐंठन ओवेरियन हाइपरस्टिम्युलेशन सिंड्रोम या ओवेरियन टॉरशन के संकेत हो सकते हैं।

ब्रेस्ट में बदलाव

गर्भावस्था का एक प्रारंभिक संकेत, कुछ महिलाओं के लिए, ब्रेस्ट में बदलाव भी हो सकतें है। यदि आपके स्तनों में सूजन या स्पर्श करने पर संवेदनशील महशुस हो और जब आप उन्हें टकराते हैं तो चोट लगती हो, तो यह एक सकारात्मक भ्रूण स्थानांतरण का संकेत हो सकता है। स्तन में कोमलता गर्भावस्था के हार्मोन के प्रभाव के कारण होता है। 2 सप्ताह के इंतजार के दौरान आपके द्वारा ली जा रही हॉर्मोन दवा के  साइड इफेक्ट ब्रेस्ट को हो सकतेहैं। इंजेक्शन से प्रोजेस्टेरोन के कारण स्तन में कोमलता पैदा करने के लिए भी जाना जाता है।

थकान

भ्रूण को गर्भाशय में रखने के बाद प्रेग्नेंट महिला को थकान का अनुभव करना भी अन्य IVF गर्भावस्था के लक्षण में से एक हो सकता है। प्रोजेस्टेरोन हार्मोन के बढ़े हुए लेवल के कारण शुरुआती गर्भावस्था के चरणों के दौरान प्रेग्नेंट महिलाएं थका हुआ महसूस करती हैं। ये हार्मोन्स, भ्रूण के विकास में मदद करने में और साथ ही प्रेगनेंसी को बनाए रखने में सहायता करते हैं।

पीरियड्स मिस 

प्रेगनेंसी के शुरुआती और महत्वपूर्ण संकेतों में से एक है मिस्ड पीरियड। नार्मल गर्भावस्था के सबसे शुरुआती लक्षण की तरह आईवीएफ गर्भावस्था में भी पीरियड का मिस होना आपके गर्भवती होने का संकेत हो सकते है।

मूड में बदलाव 

महिलाओं में गर्भावस्था के समय होने वाले हार्मोन के स्तर में बदलाव के कारण मूड में बदलाव हो सकते हैं। इसमे, मूड को कंट्रोल करने वाले ब्रेन केमिकल्स जिसे न्यूरोट्रांसमीटर्स कहते है, वो हार्मोन के परिवर्तन के कारण प्रभावित हो जाते हैं। IVF में भ्रूण स्थानांतरण के बाद गर्भावस्था के लक्षण में मूड परिवर्तन ज्यादातर गर्भावस्था की पहली तिमाही के समय छह से प्रेगनेंसी के दसवें वीक के बीच महसूस होते हैं। वहीं गर्भावस्था की दूसरी और तीसरी तिमाही में कई बार अनुभव किए जा सकते हैं।

बार बार पेशाब आना 

बार बार पेशाब आना या महशुस होना प्रारंभिक गर्भावस्था का संकेत हो सकता है। कुछ महिलाओं को यहां तक ​​कि पीरियड मिस होने से पहले अधिक बार पेशाब करने की आवश्यकता होती है।

यह गर्भावस्था के हार्मोन एचसीजी में वृद्धि के साथ-साथ प्रोजेस्टेरोन में स्पाइक के परिणामस्वरूप होते हैं। यदि भ्रूण स्थानांतरण एक सफलता थी, तो बार बार पेशाब जाने का मन होना इस कारण से हो सकता है की आपके शरीर में अतिरिक्त रक्त है।

दुर्भाग्य से, बढ़ा हुआ पेशाब भी मूत्र पथ के संक्रमण का एक लक्षण हो सकता है - इसलिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें यदि आपको इनमें से कोई भी लक्षण है तो:

  • मूत्र त्याग करने में दर्द

  • पेशाब करने का आग्रह

  • खून बह रहा है

  • बुखार

  • मतली और उल्टी

ऊपर दिए गए सभी संकेतों को ध्यान में रखना चाहिए और इन परिस्थिति में महिलाओं को धैर्य रखना चाहिए और अपने आपको सकारात्मक सोचना चाहिये। इससे से आप मानसिक और शारीरिक रूप में अपने आप को मज़बूत बना पाएंगी और हर परिस्थिति को अच्छे से जान पाएंगी। एम्ब्र्यो ट्रांसफर के बाद प्रेगनेंसी जाँच के लिए आप दो वीक के बाद ब्लड जाँच के ज़रिए यह सुनिश्चित कर सकती हैं कि आप प्रेग्नेंट हैं या नहीं।

0



  0