Meaning of Inconvenience in Hindi - हिंदी में मतलब

profile
Ayush Rastogi
Mar 08, 2020   •  1 view
  • कष्ट देना

  • असुविधा

  • असुविधाजनक कार्य

  • असुविधाजनक व्यक्ति

Synonyms of "Inconvenience"

  • Incommodiousness

  • Troublesomeness

  • Worriment

  • Trouble

  • Disoblige

  • Discommode

  • Incommode

  • Bother

Antonyms of "Inconvenience"

"Inconvenience" शब्द का वाक्य में प्रयोग

  • Convenience to Man ☻ ☻ ☻ ☻ ☺ inconvenience to Man ☺ Joy to Man ☻ ☻ ☻ ☻ ·
    पुरुष को सहूलियत ☻ ☻ ☻ ☻ ☺ · पुरुष को परेशानी ☺ · पुरुष को आनंद ☻ ☻ ☻ ☻

  • If you keep yourself relaxed you can minimize the inconvenience and pain.
    जितना आप अपने आपको ढीला छोड़ेंगी उतना ही आराम होगा । भाष् ;

  • This may mean that the disruption, and possibly the disconnection of services involved, causes considerable inconvenience to the tenant.
    इस का अर्थ यह है कि मरम्मत के काम में आने वाली बाधा या फिर मरम्मत का काम बीच में ही छौड देना, इस के कारण किरायेदार को बहुत असुविधा हो सकती है ।

  • He rejected it saying that the trial was being conducted under conditions most normal in this country, that he did not believe there was any inconvenience and that everybody will settle down comfortably at Meerut.
    उन्होंने यह कहकर उसे नामंजूर कर दिया कि मुकदमा इस देश की सर्वाधिक सामान्य स्थितियों में चलाया जा रहा है और उन्हें नहीं लगता कि किसी को इससे असुविधा होगी, बल्कि सभी मेरठ के आराम से आदी हो जायेंगे ।

  • Paging technique’s flexibility enables us to analyze the data without any inconvenience.
    पृष्ठन तकनीक की नम्यता बिना किसी असुविधा के डाटा का विश्लेषण करने के लिए हमें सक्षम बनाता है ।

  • But, Gentlemen, what can be greater injustice than to compel an unhappy complainant who may have a grievance against an Englishman, to undertake a long and tedious journey at great cost and inconvenience to himself and his witnesses in search of a European magistrate, because, forsooth, the ' native ' magistrate near at hand is incompetent to dispose of the charge, by reason of his race.
    परंतु सज्जनों, इससे बढ़कर अन्याय क्या होगा कि किसी अंग्रेज के खिलाफ शिकायत रखने वाले फरियादी और उसके गवाह को केवल इस कारण यूरोपीय मजिस्ट्रेट की खेज में भारी लागत और असुविधा के साथ लंबी और थकाउ यात्रा करने के लिए बाध्य किया जाये क्योंकि नजदीक का ' देसी ' मजिस्ट्रेट निस्संदेह अपनी जाति की वजह से अभियोग को निपटाने के अयोग्य है ।

  • The American arsenal permits a president to ignore other states and deploy unilaterally ; but is this wise ? Iraqi precedents suggest it is politically worth the inconvenience to win endorsement from international organizations such as the United Nations, the North Atlantic Treaty Organization, the Arab League, the African Union, or even the Organization of the Islamic Conference. Would endorsement by the African Union make a difference ?
    अमेरिका के हथियार राष्ट्रपति को यह अनुमति देते हैं कि वह अन्य राज्यों की उपेक्षा कर अकेले निर्णय ले सके लेकिन क्या यह बुद्धिमत्तापूर्ण है ? इराक का उदाहरण हमारे समक्ष है कि अन्तरराष्ट्रीय संगठनों संयुक्त राष्ट्र संघ, नार्थ एटलांटिक ट्रीटी आर्गनाइजेशन, अरब लीग, अफ्रीकन यूनियन या यहाँ तक कि आर्गनाइजेशन आफ द इस्लामिक कांफ्रेंस की संस्तुति लेना भले ही असहज हो लेकिन राजनीतिक रूप से उपयुक्त होता है ।

  • When you are among them, and lead them in As - Salat, let one party of them stand up with you taking their arms with them ; when they finish their prostrations, let them take their positions in the rear and let the other party come up which has not yet prayed, and let them pray with you taking all the precautions and bearing arms. Those who disbelieve wish, if you were negligent of your arms and your baggage, to attack you in a single rush, but there is no sin on you if you put away your arms because of the inconvenience of rain or because you are ill, but take every precaution for yourselves. Verily, Allah has prepared a humiliating torment for the disbelievers.
    और जब तुम उनके बीच हो और उन्हें नमाज़ पढ़ाने के लिए खड़े हो, जो चाहिए कि उनमें से एक गिरोह के लोग तुम्हारे साथ खड़े हो जाएँ और अपने हथियार साथ लिए रहें, और फिर जब वे सजदा कर लें तो उन्हें चाहिए कि वे हटकर तुम्हारे पीछे हो जाएँ और दूसरे गिरोंह के लोग, जिन्होंने अभी नमाज़ नही पढ़ी, आएँ और तुम्हारे साथ नमाज़ पढ़े, और उन्हें भी चाहिए कि वे भी अपने बचाव के सामान और हथियार लिए रहें । विधर्मी चाहते ही है कि वे भी अपने हथियारों और सामान से असावधान हो जाओ तो वे तुम पर एक साथ टूट पड़े । यदि वर्षा के कारण तुम्हें तकलीफ़ होती हो या तुम बीमार हो, तो तुम्हारे लिए कोई गुनाह नहीं कि अपने हथियार रख दो, फिर भी अपनी सुरक्षा का सामान लिए रहो । अल्लाह ने विधर्मियों के लिए अपमानजनक यातना तैयार कर रखी है

  • The culmination of this came in 1899 when, in a memorial addressed to the Secretary of State for India, ten high judicial authorities set forth eight objections which are summarised as follows: i that the combination of judicial with executive du - ties in the same officer violates the first principles of equity ; ii that while a judicial authority ought to be thoroughly impartial, and ought to approach the consideration of any case without previous knowledge of the facts, an executive officer does not adequately discharge his duties unless his ears are open to all reports and information which he can in any degree employ for the benefit of the district ; iii that executive officers in India, being responsible for a large amount of miscellaneous business, did not have sufficient time to satisfactorily dispose of judi - cial work in addition to their existing work ;. iv that being keenly interested in carrying out particu - lar executive measures, executive officers are likely to come into conflict with individuals, and therefore it is inexpedient that they should also be invested with judicial powers ; v that under the existing system Collector magistrates do, in fact, neglect judicial for executive work ; vi that appeals from revenue assessments are apt to be futile when they are heard by revenue officers ; vii that great inconvenience, expense and suffering are imposed on suitors required to follow the camp of a judicial officer who, in the discharge of his execu - tive duties, is making a tour in his district ; and viii that the existing system not only involves all whom it concerns in hardships and inconvenience, but also by associating the judicial tribunals with the work of the police and of detectives, and by diminishing the safeguards afforded by the rules of evidence, produces actual miscarriages of justice and creates, though justice be done, opportunities of suspicion, distrust and discontent which are greatly to be de - plored.
    इसकी परिणति 1899 में हुई जब सेक्रेटरी आफ स्टेट फार इंडिया को संबोधित एक अभ्यावेदन में ब्रिटिश काल दस उच्च न्यायिक अधिकारी विद्वानों ने आठ आक्षेप सामने रखे जिनका सार इस प्रकार है ; 1. एक ही अधिकारी को कार्यपालक के साथ साथ न्यायिक कार्य भी देना साम्या के प्राथमिक सिद्धांतों का उल्लंघन है ; 2. जहां न्यायिक प्राधिकारी को पूर्णतया निष्पक्ष होना चाहिए और उसे किसी मामले पर विचार आरंभ करते समय तथ्यों का पूर्वज्ञान नहीं होना चाहिए, वहां कार्यपालक अधिकारी तब तक अपने कर्तव्यों का समुचित ढंग से निर्वाह नहीं कर सकता जब तक कि वह उन सभी सूचनाओं और जानकारियों को कान न दे जिन्हें वह जिले के हित के लिए काम में ला सकता है ; 3. भारत के कार्यपालक अधिकारियों को, जो अनेक प्रकार के विविध कामों के लिए उत्तरदायी होते हैं, इतना समय नहीं होता कि वे अपने वर्तमान काम के अतिरिक्त न्यायिक कार्य भी संतोषजनक ढंग से निपटा सकें ; 4. विशिष्ट कार्यपालक अध्युपाय में गहरी रुचि होने के कारण, कार्यपालक अधिकारियों की व्यक्तियों के साथ टकराव होने की संभावना रहती है, अतः यह समीचीन नहीं है कि उन्हें न्यायिक शक्तियां भी सौंप दी जाएं ; 5. वर्तमान व्यवस्था में कलक्टर मजिस्ट्रेट वस्तुतया कार्यपालक कामों के लिए न्यायिक काम की उपेक्षा कर देते हैं ; 6. राजस्व निर्धारणों की अपीलें करने का कोई लाभ ही नहीं है यदि उनकी सुनवाई राजस्व अधिकारियों को करनी है ; 7. जब कोई न्यायिक अधिकारी अपने कार्यपालक कर्तव्यों के निर्वाह के लिए अपने जिले के दौरे पर होता है तो उसके कैंप का अनुवर्तन करने में वादियों को भारी असुविधा, खर्च और कष्ट उठाना पड़ता है ; और 8. वर्तमान व्यवस्था न केवल इससे सरोकार रखने वाले सभी व्यक्तियों के लिए कष्टदायक और असुविधाजनक है अपितु न्यायिक अधिकरणों को पुलिस और गुप्तचरों के काम से संबद्ध करके और साक्ष्य के नियमों द्वारा दिए गए रक्षोपायों को कम करके यह सचमुच न्याय का हनन करती है और न्याय हो जाने की स्थिति में भी, संदेह, अविश्वास और असंतोष के लिए अवसर उत्पन्न करती है जो अत्यंत निंदनीय है ।

  • To reduce inconvenience and indirect expenditures of patients, 46 drug dispensing centres have been established linked to the ART centre.
    मरीजों की परेशानियों और अप्रत्यक्ष व्यय को कम करने के लिए एआरटी केंद्रों से जुड़े 46 औषधि वितरण केंद्र बनाए गए हैं ।

0



  0