कविताएँ किसी को प्रेरित करने का सबसे अच्छा तरीका है।

कई कवि अपनी पूरी जिंदगी अपनी कविताओं से लोगों को प्रेरित करने में निकाल देते हैं।

क्योंकि कविताएँ उनके लिए दुनिया को उनके शब्दों से प्रेरित करने का एकमात्र स्रोत हैं।

ऐसी कविताएँ लोगों को हर समस्या से उबरने, लक्ष्य तक पहुँचने या अपनी नाराजगी या अपराधबोध को दूर करने के लिए आंतरिक शक्ति प्रदान करती हैं।

कविताएं किसी व्यक्ति को बेहतर बना सकती हैं। किसी भी प्रसिद्ध कवि के पास दिल और आत्माओं तक पहुंचने के लिए ,अपने लिखित शब्दों का उपयोग करने और लोगों को काम कराने के लिए प्रेरित करने की गहरी क्षमता होती हैं।

तो, आज यहाँ मैं आपके लिए सबसे अद्भुत प्रेरक कविताएँ लाया हूँ, जो आपको पसंद आएंगी।
और ये कविताएँ आपको अपना काम पूरी तरह से करने के लिए प्रेरित करेंगी ।


तो चलिए शुरू करते हैं और पहली कविता पढ़ते हैं।

1. सब एक समान

धर्म, कर्म और मज़हब की नफरत क्यों है?
हिन्दू और मुस्लिम में आपसी नफरत क्यों है?

अस्पतालों में अकसर ये किया जाता है
की खून बिना मज़ब देखे दिया जाता है

छूट छात और तालसुप की लानत क्यों है?
जाती भेद और उच्च नीच की फितरत क्यों है?

एक जैसे दिखते है,एक सा खाते है,
फिर क्यों कुछ सोना , कुछ हरिजन कहलाते है?

जब खुद खुदा हमें एक जैसा बनाता है,
तो इंसान ही क्यों इंसान से कतराता हैं?

एक सी धूप हमें छूती हैं, बरसता पानी है,
एक सा खून है हमारा, एक सी कहानी है,

एक ही हवा है जिसको लेकर हम जिंदा है
फिर बी इंसान इंसान से शर्मिंदा हैं।

1-k23nfc6j

2. खामोश सी वो बाते

खामोश बारिश है, घुमनाम राते है,
बहती अश्कों की धारा में गम की बाते है,

ज़िन्दगी कुछ पल ठहरती है कभी,
कभी रास्ते यहां सुनसान हो जाते है

जिस्म में आती है लहरे ठंडी सी यहां,
तो कभी कहीं हालात सर्द हो जाते है

बारिश की बूंदे भिगोती है दिल को,
और हर कोने में ठहरता है पानी,

जो याद आते है हरकत दिल को,
वहीं आंखो को गिला कर जाते है,

जब में चलता हूं इस बारिश में,
मेरे हर गम हर आंसू धूल जाते है।

2-k23ngkuh

3. काश तू मेरा ना होता

मेरा हाल बेहाल कर ले,
मुझसे मेरा हाल पूछ रहे हों,
तुम भी यार कमाल कर रहे हो,
सच कहना क्या तुम भी मुझे याद कर रहे हो!!

शिकायत मेरी है तो मुझसे करो,
फरियाद मेरी है तो मुझसे करो,
तुम भी यार कमाल करते हो ,
क्यों मुझे खॉ म खा ,
बदनाम करते हो,
सच बताना तुम भी मुझे याद करते हो !!

अगर आ गया था पसंद कोई और,
बताया तो होता,
रिहा कर देते तुम्हे,
कोई भी शिकायत ना करते,
पर ऐसे झुटे आस तो दिखाया ना होता,
काश तू मेरी ज़िन्दगी में आया ही ना होता !!!!

3-k23nhzc2

4. झुता प्यार!!!

मासूम है इतने आपके वादों पर ऐतबार कर लिया,
ना कोई उम्मीद थी फिर भी आपके आने का इंतज़ार कर लिया,

पता है हाथ आएगा कुछ नहीं,
फिर भी खुद की खुशियों का सौदा कर लिया,

अपने निंदो से समझोता कर लिया,
मासूम है इतने आपके तवज्जो को प्यार समझ लिया।।

4-k23niuuq

5. लक्ष्य

लक्ष्य ज्यादा दूर नहीं है, अपनी रफ़्तार थोड़ी तेज करनी है,
आज खामोशी से पढ़ कर ,कल अपनी सफलता की कहानी लिखनी है।

5-k23nkqyh

6. कोशिश कर

कोशिश कर, हल निकलेगा।
आज नहीं तो कल निकलेगा।
अर्जुन के तीर सा सध,
मरूथल से भी जल निकलेगा।।

मेहनत कर , पौधों को पानी दे,
बंजर ज़मीन से भी फल निकलेगा।
ताकत जुटा, हिम्मत को आग दे,
फौलाद का भी बल निकलेगा।

जिंदा रख, दिल में उम्मीदों को,
गरल के समुंदर से भी गंगाजल निकलेगा।
कोशिश जारी रख कुछ कर गुजरने की,
जो है आज थमा- थमा सा , कल चल निकलेगा ।।

6-k23nn7zb

7. तू आज है

वजूद तेरा मिटाने चला कोई,
वो खाक में मिल जाएगा....
शोला है तू आग है वो,
जो उन सब को राख कर जाएगा.....

जो चाही है मंज़िल तूने,
उस तक लड़कर ही जा पाएगा...
मुसीबत लाख आए पथ पर,
उन सबको मात दे जाएगा.....

वजूद तेरा मिटाने चला कोई,
वो खाक में मिल जाएगा....
शोला है तू आग है वो,
जो उन सब को राख कर जाएगा.....

क्यों सोचता है अकेला है तू,
वहा तक ना पहुंच पाएगा...
जब खुद खुदा है तेरे साथ ,
तो तू अकेला कहा रह जाएगा।।।।

7-k23npxsv

8. अकेले तुम

बहता हुआ दरिया, इसे अकेले ही पर करना है,
कोई तुम्हारे साथ है, इस धोके से बचना है,

मोती मिले है तूफ़ान,वो किस्मत तेरी होगी,
साहिल तुझे मिल जाए, वो मेहनत तेरी होगी,

शब में बहता ये पानी, फिर क्यों तू जाए,
ना मिले किनारा जब तक, तू चेन केसे पाए।।।।

8-k23nqs06

9. अपने

मौत की गाड़ी में जिस दिन जाना होगा ,
ना कोई तकिया ना बिछोना होगा।

साथ होगी दोस्ती की यादे
और एक शमशान का कोना होगा।

और वहा लिखा होगा -
मंज़िल तो तेरी यही थी,

बस ज़िन्दगी गुजर गई आते आते ,
क्या मिला तुझे दुनिया से,
जब अपनों ने ही जला दिया जाते जाते ।।।।

9-k23nrkcb

10. ज़िन्दगी मुह ना झुका

एक सुबह एक मोड़ पर,
मैने कहा उसे रोक कर,
हाथ बड़ा एक ज़िन्दगी,
आंख मिला के बात कर,

रोज़ तेरे जीने के लिए,
एक सुबह मुझे मिल जाती है,
मुरझाती है कोई शाम अगर,
तो रात कोई खिल जाती है,

मै रोज़ सुबह तक आता हूं ,
और रोज़ शुरू करता हूं सफर,
हाथ बड़ा ए ज़िन्दगी,
आंख मिला के बात कर।।।।

10-k23nsk1o

तो, ये आपके लिए कुछ प्रेरक कविताएँ हैं जो आपको अपनी शक्ति, प्रेरणा और प्रेरणा हासिल करने में मदद करेंगी।

इन प्रेरक कविताओं को पढ़ने के बाद आप अच्छा महसूस करेंगे और आपका मानसिक तनाव कम हो जाएगा।

इसलिए, जब भी आप उदास महसूस करें, बस एक काम करें। इन कविताओं को देखें और पढ़ना शुरू करें।

तो, अंत में, यदि आप मेरे काम को पसंद करते हैं। कृपया टिप्पणी अनुभाग में 'हां' टिप्पणी करें अन्यथा टिप्पणी 'नहीं' करे।

“खुश रहो प्रेरित रहो”















0



  0