Bharat Ek Saath Hai | Sonu Sood

profile
Tabandchord.Com
May 18, 2020   •  1 view

Bharat Ek Saath Hai Lyrics by Sonu Sood in English and Hindi..

Mana ki ghani raat hai
Is raat se ladne ke liye
Pura Bharat ek saath hai

Teri koshish, meri koshish rang layegi
Maut ke is maidaan mein zindagi jeet jayegi
Phir usi bheed ka hissa honge
Bas sirf kuch hi donon ki baat hai

Mana ki ghani raat hai
Magar pura Bharat ek saath hai

In oonchi oonchi imaraton ki
Chhoti chhoti khidkiyon mein sapne bade hain
Filhal sambhal, jaan bacha
Sadkon par tere mere rakhwale khade hain
Phir khushiyon ka mausam aayega
Pakka apna vishwas hai

Mana ki ghani raat hai
Is raat se ladne ke liye
Pura Bharat ek saath hai
Mana ki ghani raat hai

Koi maut se ladkar zindagi bacha raha hai
Koi kachra uthakar bhi taali baja raha hai

Koi khud ki parwah kiye bina
Apna farz nibha raha hai
Insaniyat hai sabse pehle
Na koi dharam na jaat hai

Mana ghani raat hai
Magar aaj pura Bharat ek saath hai

Jisne tera ghar sawara
Aaj woh khud beghar hai
Chal pada hai sadak napne
Chehre pe shikan man mein darr hai

Aao khol dein apne ghar ke darwaze
Kahein kuch din bas yehi tera ghar hai

Mana ghani raat hai
Magar pura Bharat ek saath hai

माना कि घनी रात है
इस रात से लड़ने के लिए पूरा भारत एक साथ है
तेरी कोशिश, मेरी कोशिश रंग लाएगी
मौत के इस मैदान में ज़िंदगी जीत जाएगी

फिर उसी भीड़ का हिस्सा होंगे
बस सिर्फ़ कुछ ही दिनों की बात है
माना ये घनी रात है, मगर पूरा भारत एक साथ है

इन ऊँची-ऊँची इमारतों
की छोटी-छोटी खिड़कियों में सपने बड़े हैं
फ़िलहाल सँभल, जान बचा
सड़कों पर तेरे-मेरे रखवाले खड़े हैं
फिर खुशियों का मौसम आएगा
पक्का अपना विश्वास है

माना कि घनी रात है
इस रात से लड़ने के लिए पूरा भारत एक साथ है
माना कि घनी रात है

कोई मौत से लड़कर ज़िंदगी बचा रहा है
कोई कचड़ा उठाकर भी ताली बजा रहा है
कोई खुद की परवाह किए बिना अपना फ़र्ज़ निभा रहा है
इंसानियत है सबसे पहले, ना कोई धर्म, ना जात है

माना घनी, काली रात है
माना घनी, काली रात है
मगर आज पूरा भारत एक साथ है

जिसने तेरा घर सँवारा आज वो खुद बेघर है
चल पड़ा है सड़क नापने, चेहरे पे शिकन, मन में डर है
आओ खोल दें अपने घर के दरवाज़े
कहें, "कुछ दिन बस यही तेरा घर है"

माना कि काली, घनी रात है
मगर पूरा भारत एक साथ है

0



  0