Meaning of Sunset in Hindi - हिंदी में मतलब

profile
Ayush Rastogi
Mar 08, 2020   •  1 view
  • सूर्यास्त

  • समापक

  • डूबता

  • दिनांत

Synonyms of "Sunset"

Antonyms of "Sunset"

"Sunset" शब्द का वाक्य में प्रयोग

  • “ If the warriors come here, and your head is still on your shoulders at sunset, come and find me, ” said the stranger. “
    अगर यहां लड़ाकू योद्धा आ जाएं और सूर्यास्त तक तुम सही सलामत रही, तो मुझे ढूंढते हुए आ जाना, ” अजनबी ने कहा ।

  • So be patient at what they say, and celebrate the praise of your Lord before the rising of the sun and before the sunset,
    तो जो कुछ ये लोग किया करते हैं उस पर तुम सब्र करो और आफ़ताब के निकलने से पहले अपने परवरदिगार के हम्द की तस्बीह किया करो

  • It has been made permissible for you the night preceding fasting to go to your wives. They are clothing for you and you are clothing for them. Allah knows that you used to deceive yourselves, so He accepted your repentance and forgave you. So now, have relations with them and seek that which Allah has decreed for you. And eat and drink until the white thread of dawn becomes distinct to you from the black thread. Then complete the fast until the sunset. And do not have relations with them as long as you are staying for worship in the mosques. These are the limits Allah, so do not approach them. Thus does Allah make clear His ordinances to the people that they may become righteous.
    ताकि वह सीधी राह पर आ जाए तुम्हारे वास्ते रोज़ों की रातों में अपनी बीवियों के पास जाना हलाल कर दिया गया औरतें तुम्हारी चोली हैं और तुम ख़ुदा ने देखा कि तुम करके अपना नुकसान करते तो उसने तुम्हारी तौबा क़ुबूल की और तुम्हारी ख़ता से दर गुज़र किया पस तुम अब उनसे हम बिस्तरी करो और जो कुछ ख़ुदा ने तुम्हारे लिए लिख दिया है उसे माँगों और खाओ और पियो यहाँ तक कि सुबह की सफेद धारी काली धारी से आसमान पर पूरब की तरफ़ तक तुम्हें साफ नज़र आने लगे फिर रात तक रोज़ा पूरा करो और हाँ जब तुम मस्ज़िदों में एतेकाफ़ करने बैठो तो उन से हम बिस्तरी न करो ये ख़ुदा की हदे हैं तो तुम उनके पास भी न जाना यूँ खुल्लम खुल्ला ख़ुदा अपने एहकाम लोगों के सामने बयान करता है ताकि वह लोग बचें

  • Displays the duration between sunset and sunrise for the selected date.
    चुने गए तारीख़ का सूर्योदय तथा सूर्यास्त के बीच का अंतराल प्रदर्शित करता है.

  • , have patience with what they say, glorify your Lord, and always praise Him before sunrise, sunset, in some hours of the night and at both the beginning and end of the day, so that perhaps you will please your Lord.
    अतः जो कुछ वे कहते है उसपर धैर्य से काम लो और अपने रब का गुणगान करो, सूर्योदय से पहले और उसके डूबने से पहले, और रात की घड़ियों में भी तसबीह करो, और दिन के किनारों पर भी, ताकि तुम राज़ी हो जाओ

  • So endure what they say, and proclaim the praises of your Lord before the rising of the sun, and before sunset.
    तो जो कुछ ये लोग किया करते हैं उस पर तुम सब्र करो और आफ़ताब के निकलने से पहले अपने परवरदिगार के हम्द की तस्बीह किया करो

  • Bear then with patience what they say. Exalt with the praise of your Lord before sunrise and before sunset.
    तो जो कुछ ये लोग किया करते हैं उस पर तुम सब्र करो और आफ़ताब के निकलने से पहले अपने परवरदिगार के हम्द की तस्बीह किया करो

  • All day he climbed over hills and down through valleys, until at sunset he found himself at the summit of a mountain.
    दिन भर वह चलता रहा, पहाड़ी से होकर, घाटियों में से निकलता, शाम होते होते वह पर्वत की चोटी पर पहुंच गया ।

  • It has been made permissible for you the night preceding fasting to go to your wives. They are clothing for you and you are clothing for them. Allah knows that you used to deceive yourselves, so He accepted your repentance and forgave you. So now, have relations with them and seek that which Allah has decreed for you. And eat and drink until the white thread of dawn becomes distinct to you from the black thread. Then complete the fast until the sunset. And do not have relations with them as long as you are staying for worship in the mosques. These are the limits Allah, so do not approach them. Thus does Allah make clear His ordinances to the people that they may become righteous.
    तुम्हारे लिए रोज़ो की रातों में अपनी औरतों के पास जाना जायज़ हुआ । वे तुम्हारे परिधान हैं और तुम उनका परिधान हो । अल्लाह को मालूम हो गया कि तुम लोग अपने - आपसे कपट कर रहे थे, तो उसने तुमपर कृपा की और तुम्हें क्षमा कर दिया । तो अब तुम उनसे मिलो - जुलो और अल्लाह ने जो कुछ तुम्हारे लिए लिख रखा है, उसे तलब करो । और खाओ और पियो यहाँ तक कि तुम्हें उषाकाल की सफ़ेद धारी काली धारी से स्पष्टा दिखाई दे जाए । फिर रात तक रोज़ा पूरा करो और जब तुम मस्जिदों में ' एतकाफ़ ' की हालत में हो, तो तुम उनसे न मिलो । ये अल्लाह की सीमाएँ हैं । अतः इनके निकट न जाना । इस प्रकार अल्लाह अपनी आयतें लोगों के लिए खोल - खोलकर बयान करता है, ताकि वे डर रखनेवाले बनें

  • So endure what they say, and proclaim the praises of your Lord before the rising of the sun, and before sunset.
    अतः जो कुछ वे कहते है उसपर धैर्य से काम लो और अपने रब की प्रशंसा की तसबीह करो ; सूर्योदय से पूर्व और सूर्यास्त के पूर्व,

0



  0