क्या है दृष्टिकोण?

हम कई बार दृष्टिकोण ये शब्द सुनते हैं, पर क्या होता है दृष्टिकोण का मतलब? दृष्टिकोण मतलब देखने ,सोचने ,समझने का पहलू। हम किसी चीज या कोई परिस्थिति को किस प्रकार से देखते हैं और उसे कैसे सोचते और समझते हैं इसे व्यक्ति का दृष्टिकोण कहा जाता है। हमारे किसी परिस्थिति की तरफ देखने के नज़रिए को दृष्टिकोण कहा जाता है। हर व्यक्ति का नज़रिया अलग अलग हो सकता है, मतलब हर व्यक्ति का दृष्टिकोण अलग अलग हो सकता है ।एक ही वातावरण ,परिस्थिति और अनुशासन में रहते हुए भी हर व्यक्ति के विचार करने की पद्धति में अंतर होता है ।ये अंतर उसके दृष्टिकोण को दिखाता है ।उसके अपने जीवन की तरफ देखने के नज़रिए को ये अंतर प्रदर्शित करता है।

हमारा दृष्टिकोण हमारे जीवन पर कैसे असर करता है ?

हम हमारे सामने आई परिस्थिति या कोई चीज को किस तरह से देखते हैं, उसके बारे में कैसे सोचते हैं यह सब चीजें हमारे जीवन पर बहुत असर करती है ।कम शब्दों में कहा जाए तो हमारा दृष्टिकोण हमारे जीवन पर बहुत गहरा असर करता है ।दृष्टिकोण ये बस हमारे देखने का नज़रिया है। हम अपने जीवन को किस तरह से देखते हैं उसमें ही हमारा सुख छिपा होता है ।हम अपने जीवन से खुश है या दुख ये हमारे दृष्टिकोण पर निर्भर करता है।

हमारा दृष्टिकोण कैसा होना चाहिए?

कहते हैं उम्मीदों पर जिंदगी है ।इसलिए उम्मीद कभी नहीं छोड़नी चाहिए। जैसे पानी से आधा भरे हुए ग्लास को देखने के दो तरीके वैसे हमारी जिंदगी को देखने के भी कई तरीके होते हैं ,बस हमें वो दिशा ढूंढनी है जिससे हमें आगे बढ़ने की उम्मीद मिले।मतलब हमे हमेशा सकारात्मक दृष्टिकोण रखना चाहिए ।कोशिश करें कि हमारी जिंदगी की तरफ देखने का हमारा नज़रिया हमेशा अच्छा और सकारात्मक हो ।अगर जिंदगी में आगे का रास्ता चाहिए तो शक्यताओ पर ध्यान देना जरूरी है।

0-shkts0rsbas0jsfd-k0rpnq8q

क्यों जरूरी है सकारात्मक दृष्टिकोण?

सकारात्मक दृष्टिकोण आपके जीवन में सफलता और खुशी लाता है। इसकी मदद से आप जीवन में उज्वल पक्ष को देख पाते हैं और आशावादी बनते हैं। सकारात्मक दृष्टिकोण यह दिमाग की एक अवस्था है जो जीवन जीने के ढंग को बदल देती है।

सकारात्मक दृष्टिकोण आपकी सोच को सकारात्मक बना देता है। आपको पूरी ऊर्जा के साथ प्रेरित करता है ।जब भी कोई कठिन परिस्थिति आपके सामने आती है तो यह दृष्टिकोण आपको उससे लड़ना सिखाता है। सकारात्मक दृष्टिकोण आपको खुद पर विश्वास करना सिखाता है।

बदले अपना दृष्टिकोण

अगर आप आशावादी दृष्टिकोण रखते हो तो आप अपने जीवन के सही पथ पर हो ।पर अगर आप हमेशा निराश रहते हो या फिर अपनी जिंदगी से खुश नहीं हो तो आपको अपने जीवन की तरफ अपना नज़रिया बदलना होगा ।आपको आपका दृष्टिकोण बदलना होगा ।ये दृष्टिकोण आपकी दुनिया और जीने का अंदाज़ बदल देगा ।आपको जीने के लिए आशा की किरण देगा। सकारात्मक दृष्टिकोण जिंदगी का एक अहम पहलू है ।आपके जिंदगी में कितने भी उतार-चढ़ाव आए सकारात्मक दृष्टिकोण से आपको उससे बाहर निकलने का मार्ग ज़रूर मिलेगा।

v4-728px-deal-with-unexplained-pains-step-12-k0rpodeu

कैसे बदले अपना दृष्टिकोण?

१) आशावादी बने -चाहे जिंदगी में कितनी भ बिकट स्थिति आए ,हमें उस स्थिति से लड़ने की उम्मीद बनाए रखना चाहिए ।यह परिस्थिति कुछ दिनों की है जल्द ही ख़ुशियाँ आएगी यह आशा बनाए रखनी चाहिए ।आशा हमें जीने की प्रेरणा देती है ,लक्ष्य पाने की स्फूर्ति देती है। इसलिए हमेशा आशावादी रहना चाहिए।

२) नतीजे की परवाह किए बिना प्रयत्न करें - प्रयत्न सफलता की चाबी है ।इंसान ने कोशिश करने से कभी पीछे नहीं हटना चाहिए। कोशिश किए बिना ही हम नतीजे के बारे में सोचते रहे तो सफलता कभी हाथ नहीं लगेगी। अगर जिंदगी में सफल होना है तो खुद उसकी तरफ कदम बढ़ाने होंगे।

३) सकारात्मक सोच वाले लोगों के साथ रहे -हम जिस माहौल में रहते हैं हमारी सोच भी उसी तरह की बनती जाती है इसीलिए हमेशा सकारात्मक सोच रखने वाले लोगों के साथ रहना चाहिए।

४) बेफिक्र रहे - अपने जीवन को खुशी से जीना सीखें ।अपने सभी चिंता और तनाव को दूर करें और खुश रहें।

५)खुद पर विश्वास रखे- अपने लक्ष्य को पाने के लिए सबसे जरूरी है खुद पर विश्वास रखना ।जो व्यक्ति खुद पर विश्वास रखना जानता है वह हमेशा सकारात्मक सोचता है और जिसकी सोच सकारात्मक है वह व्यक्ति जिंदगी की तरफ सकारात्मक दृष्टिकोण से देखता है।

सकारात्मक-सोच-की-शक्ति-हिंदी-में-k0rpoofv
1



  1