आत्मविश्वास

profile
Rutika Mahajan
Sep 13, 2019   •  59 views

सफलता की राह पर सबसे पहली सीढ़ी होती है आत्मविश्वास।किसी भी व्यक्ति को सफल होने में आत्मविश्वास उतना ही जरूरी है जैसे जीने के लिए ऑक्सीजन तथा मछली के लिए पानी। आत्मविश्वास को सफलता की कुंजी माना जाता है ।अगर तुम्हें खुद पर विश्वास है तो तुम्हारी जीत निश्चित है आत्मविश्वास से ही विचारों की स्वाधीनता प्राप्त होती है और इसके कारण ही महान कार्यों के संपादन में सरलता और सफलता मिलती है।

आत्मविश्वास सफलता का मूल मंत्र है ।यदि आप सफल होना चाहते हैं तो सर्वप्रथम आत्मविश्वास जरूरी है आधी जंग आत्मविश्वास से जीती जाती है ।आत्मविश्वास में इतनी शक्ति है कि जिससे रहते मानव हजारों मुसीबतों का सामना कर सकता है। महान कार्य को पूरा करने के लिए आत्मविश्वास बहुत जरूरी होता है। आत्मविश्वास की कमी वाला इंसान नकारात्मक सोचने लगता है इसकी वजह से जिंदगी में आई छोटी-छोटी परेशानियों से भी वह लढ नहीं पाता। खुद पर विश्वास की कमी हमें अंदर से खोकला बनाती है ।इसीलिए खुद पर विश्वास करना सबसे अहम चीज होती है ।हमें स्वयं के महत्व को जानना चाहिए ।इंसान जन्म से आत्मविश्वास लेकर पैदा नहीं होता, हमारा स्वयं का व्यक्तित्व, मन ,मस्तिष्क व जीवन को प्रभावित करने वाले कारक ही हमारे आत्मविश्वास को घटाने और बढ़ाने का काम करते है।

dcrtgfj-300x187-k0hrrbhg

आत्मविश्वास कैसे बढ़ाए -

) अपने आप का स्वीकार करें - आत्मविश्वास बढ़ाने के लिए सबसे महत्वपूर्ण चीज है खुद का स्वीकार करना। प्रत्येक व्यक्ति किसी ना किसी चीज में अच्छा होता है, इसलिए आप जैसे हो वैसे पहले खुद को स्वीकारें और उसके बाद अपने अंदर की कमियों को जानकर उस पर काम करें ।यह चीज मैं नहीं कर सकता यह सोच कर बैठ जाना किसी समस्या का हल नहीं होता ।अगर आपको खुद पर भरोसा है तो आप दुनिया की कोई भी चीज कर सकते हो।

२) अपनी कमजोरी और ताकत को जानो - अपने अंदर की कमजोरी और ताकत को जानना मतलब अपने आप को अच्छी तरह से जानना। हर व्यक्ति के अंदर कुछ ना कुछ कमियां होती है पर उस कमियों को जानकर उसे अपनी ताकत में बदलना सफल इंसान की पहचान होती है ।अपने अंदर की कमजोरी और शक्तियों को जानने के बाद ही आप सही काम करने का फैसला कर सकते हो।

३) सकारात्मक सोचो - सकारात्मक सोच आपके अंदर आत्मविश्वास पैदा करती है। इसीलिए सकारात्मक सोचना बहुत जरूरी होता है। हर रोज कुछ सकारात्मक पढ़े और अपने जिंदगी को बेहतर बनाने पर विचार करें। अपना हर काम सकारात्मक सोच के साथ शुरू करें ।हमेशा अच्छा और सकारात्मक सोचे।

bachchon-men-atmavishwas-badhana-k0hrt68f

४) अपनी तुलना दूसरों के साथ करना बंद करे - हर व्यक्ति एक दूसरे से अलग होता है । हर कोई व्यक्ति अलग अलग चीजों में माहिर होता है। इसलिए अगर आप कोई चीज में किसी व्यक्ति से कम हो तो अपने मन को छोटा ना करें ,हो सकता है कि आप किसी दूसरी चीज में उस व्यक्ति से अच्छे हो।इसीलिए अपनी तुलना दूसरों के साथ करना बंद करे इससे आपको सिर्फ नाराजगी ही मिलेगी ।

५) अपनी गलतियों से सीखो - जिंदगी में हर व्यक्ति कोई ना कोई गलती करता है , पर उस गलती की वजह से जिंदगी हमेशा के लिए रुक नहीं सकती। इसलिए उस गलती से सीखकर हमें आगे बढ़ना चाहिए ।हर गलती हमें एक नई सीख देती है। जितना हम अपनी जीत से नहीं सीखते उतना हम अपने हार से सीखते हैं ।इसलिए अपने गलतियों से सीखो और अपनी जीत की तरफ कदम बढ़ाओ। गलती करना गलत बात नहीं है गलत है उस गलती की वजह से खुद को कमजोर समझना।

६) उपलब्धियों पर ध्यान दें - अगर सोल्यूशन चाहिए तो उपलब्धियों पर ध्यान दें ।अगर परिस्थितियां कठिन लग रही है तो कुछ नया स्किल सीखे। कुछ भी नया सीखना आपके आत्मविश्वास को बढ़ाता है। किसी भी लक्ष्य को पाना है तो उन सारी चीजों पर लक्ष्य केंद्रित करो जिसकी वजह से आप वह लक्ष्य प्राप्त कर सकते हो। इसकी वजह से आप सकारात्मक सोचोगे और आपके अंदर का आत्मविश्वास बढ़ेगा।

७)अपने व्यक्तित्व को निखारें - अपने अंदर के गुणों के साथ साथ ही अपने व्यक्तित्व का भी हमारे आत्मविश्वास पर प्रभाव पड़ता है। आप कैसा सोचते हो उसके साथ साथ ही जरूरी है आप कैसे रहते हो। जैसे आप रहते हो वैसा आप महसूस करते हो। इसीलिए अपनी बॉडी लैंग्वेज और कम्युनिकेशन स्किल्स पर ध्यान दें। उन्हें सुधारने का प्रयत्न करें। खुद को एक बिंदु तक सीमित ना रखें। नई सूचनाओ से अपडेट रहते हुए अपने आसपास के परिवेश से जुड़े रहे।

-2018110817042565-900x-k0hrqgkf

कोई भी चीज हम एक दिन में नहीं पा सकते ।उसके लिए हमें प्रयास करते रहना चाहिए । कोई भी नई चीजें सीखने से तकराईए मत।जो चीजें हमें नहीं आती उसका खुले दिल से स्वीकार करो और उसे सीखो। खुद पर विश्वास रखो और प्रयास करते रहो।

1



  1